Bangladesh ki mudra kya hai – बांग्लादेश की मुद्रा क्या है?

अक्सर लोग भारतीय मुद्रा और विदेशी मुद्रा के बारे में बात करते हैं। परंतु कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अन्य देशों की मुद्रा के बारे में भी जानना चाहते हैं, जैसे कि बांग्लादेश की मुद्रा। 

पहले भारत में भी बांग्लादेश की मुद्रा का चलन था परंतु धीरे-धीरे यह समाप्त हो गया। इस बांग्लादेशी मुद्रा के बारे में जानने के लिए आज भी लोग उत्सुक हैं और bangladesh ki mudra का इतिहास भी ढूंढते रहते हैं।

तो चलिए आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको बताते हैं कि bangladesh ki mudra क्या है? साथ ही हम आपको बांग्लादेश की मुद्रा का इतिहास भी बताने का प्रयास करेंगे जिससे कि आप बांग्लादेश की मुद्रा के बारे में और भी जानकारी अर्जित कर पाएंगे।

बांग्लादेश की मुद्रा क्या है? (What is bangladesh ki mudra)

bangladesh ki mudra
bangladesh ki mudra

बांग्लादेश की मुद्रा का नाम टका है। पहले के समय यानी भारत की आजादी से पहले भारत में भी टका मुद्रा का उपयोग किया जाता था। लेकिन भारत की आजादी के बाद यह केवल bangladesh ki mudra बन गई। 

आज भी भारत के कुछ राज्यों जैसे पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा में रुपए को टका बोला जाता है। इसके साथ असम में इसे टोका और उड़ीसा में टौंका नाम से जाना जाता है। 

बांग्लादेशी टका बांग्लादेश की एक अधिकारिक मुद्रा है। बांग्लादेश में 1 टका से लेकर 5 टका के नोटों या मुद्राओं को बांग्लादेश सरकार के वित्त मंत्रालय द्वारा जारी किया जाता है। इसके अलावा 10 टका या उससे अधिक मूल्य वाले मुद्राओं को बांग्लादेश बैंक जारी करती है। 

जिस तरह अंग्रेजी में भारतीय मुद्रा को INR कहा जाता है उसी प्रकार अंग्रेजी में बांग्लादेशी मुद्रा को BDT कहा जाता है। bangladesh ki mudra का प्रतीक TK है। 

टका मुद्रा की उत्पत्ति 

बांग्लादेश की मुद्रा टका को सबसे पहले 14वीं शताब्दी में पेश किया गया था और उसके बाद से ही यह एक सिल्करोड की मुद्रा बन गई थी। कई इतिहासकारों के हिसाब से बांग्लादेश की मुद्रा का इतिहास मध्यकालीन इस्लामी इतिहास और भारतीय उपमहाद्वीप की संस्कृति से जुड़ा हुआ है। 

द अमेरिकन हेरिटेज डिक्शनरी ऑफ द इंग्लिश लैंग्वेज एंड बांग्लापीडिया (The American Heritage Dictionary of the English and Banglapedia) के अनुसार टका शब्द संस्कृत शब्द के टांका शब्द से लिया गया है। 

पुरानी तुर्की भाषा में एक तमगा का शब्द का उपयोग किया जाता था, जिसका अर्थ मुद्रा या मोहर होता है। इसी तमगा शब्द से टांका का शब्द बना और टांका शब्द से टका शब्द की उत्पत्ति हुई। बांग्लादेश में शुरुआत से ही सभी मुद्रा को टका ही कहा जाता था। 

यहां तक कि जब 13 वीं या 14 वीं शताब्दी में सोने या चांदी की मुद्रा को दिनार कहा जाता था। तब भी बांग्लादेशी सल्तनत दिनार को टका ही कहते थे। 

14 वीं शताब्दी मे इब्र बटुता ने इस बात की पहचान की थी कि बंगाली लोग सोने और चांदी के सिक्कों को दिनार की बजाय टका कहते हैं। बांग्लादेश में अपने इतिहास से ही सभी प्रकार के मुद्रा सिक्कों और रुपयों या नोटों के लिए टका शब्द का ही इस्तेमाल करती है।

बांग्लादेश में टका मुद्रा का इतिहास 

टका 13वीं शताब्दी में इस्लामी बंगाल मैं एक चांदी के रुपए के बराबर हुआ करता था। कई लोगों जैसे इब्नबतूता और एडमिरल झेंग हे ने देखा कि बंगाल में इस्लामी दिनार के बजाय टका का इस्तेमाल किया जा रहा है और टका मुद्रा का ही सबसे ज्यादा प्रभाव है। बंगाल के सुल्तान ने पूरे बांग्ला में कम से कम 27 टकसाल बनाएं और वहां पर कई समय तक टका मुद्रा जारी होता रहा। 

इस तरह से बंगाल अपने टका मुद्रा के कारण अधिक समृद्ध हो गया। बंगाल की टका मुद्रा का legal tender भी जारी कर दिया गया। इतिहास में इसका उपयोग कई कंपनियों जैसे- डच ईस्ट इंडिया कंपनी, फ्रेंच ईस्ट इंडिया, कंपनी डेनिस ईस्ट इंडिया कंपनी, और ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने वाणिज्य में किया था। 

अब आधुनिक समय में यही बांग्लादेशी टका bangladesh ki mudra बन चुकी है जिसे बांग्लादेश में 1972 में अधिकारिक तौर पर मान्य किया गया था। बांग्लादेश लिबरेशन वार की समाप्ति के बाद से ही यह बांग्लादेश बैंक द्वारा अधिकारिक तौर पर पेश किया गया। इस बांग्लादेशी टका को Bangladesh Security Printing Corporation द्वारा बनाया जाता है। 

वर्तमान बांग्लादेशी टका सिक्के और बैंक नोट 

आधुनिक समय में बांग्लादेश में कुछ टका सिक्के और बैंक नोट में प्रचलन में है। इसके साथ जिस तरह भारत में पैसे का चलन है, उसी प्रकार बांग्लादेश में भी पोईशा का प्रचलन है। बांग्लादेश में इस समय 1,2,5 टका के सिक्के के प्रचलन में है, इसके साथ 1,5,10, 25,और 50 पोईशा सिक्के के प्रचलन में है।

भारत का ₹1 बांग्लादेश के कितने रुपए के बराबर है?

भारत के ₹1 का मूल्य बांग्लादेश के रुपए से अधिक है। बांग्लादेश के 1 टका का मूल्य भारत के 0.81 रुपए के बराबर है। हालांकि भारत के रुपए और बांग्लादेश के टका में अधिक अंतर नहीं है। भारत का ₹1 बांग्लादेश के 1.24 टका के बराबर है। 

निष्कर्ष

आज के इस लेख में हमने आपको बताया कि bangladesh ki mudra का क्या नाम है? उम्मीद है कि इस लेख की मदद से आपको बांग्लादेश की मुद्रा से संबंधित सभी जानकारियां मिल पाई होंगी। यदि आपको इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न है तो आप हमें कमेंट में बताएं। 

FAQ

प्रश्न – बांग्लादेश की राजधानी और मुद्रा क्या है?

उत्तर – बांग्लादेश की राजधानी ढाका है और bangladesh ki mudra टका है।

प्रश्न – बांग्लादेश में सरकारी नोट क्या है?

उत्तर – बांग्लादेश में सरकारी नोट बांग्लादेशी टका है।

प्रश्न – बांग्लादेश में कितने सिक्के हैं? 

उत्तर – बांग्लादेश में इस समय 1,2 और 5 टका के सिक्के प्रचलन में हैं।

Leave a Comment